बुधवार, 24 नवंबर 2010

चश्मा

कुछ दिनों पहले उसके पास
दो सौ रूपए का चश्मा था
बार बार उसके हाथों से गिर जाता था
और वो बड़ी शान से सबसे कहता था
मेहनत की कमाई है
खरोंच तक नहीं आएगी।

आज वो चार हजार का चश्मा पहनता है
मगर वो चश्मा जरा सा भी
किसी चीज से छू जाता है
तो वह तुरंत उलट पलट कर
ये देखने लगता है
कि कहीं चश्मे में
कोई खरोंच तो नहीं आ गई।

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह यार वाह! कमाल है धरम भाई| एक ही व्यक्ति, एक ही वस्तु, एक ही घटना - पर समय के साथ बदलती सोच और विश्वास| भई वाह|

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।