शनिवार, 11 दिसंबर 2010

हवाई जहाज

हवाई जहाज को
दुनिया और ख़ासकर शहर
बड़े खूबसूरत नजर आते हैं
सपाट चमचमाती सड़कों से उड़ना
रुई के गोलों जैसे
सफेद बादलों के पार जाना
हर समय चमचमाते हुए
हवाई अड्डों पर उतरना या खड़े रहना
दरअसल
असली दुनिया क्या होती है
हवाई जहाज
ये जानता ही नहीं
वो अपना सारा जीवन
असली दुनिया से दूर
सपनों की चमकीली दुनिया में ही बिता देता है

हवाई जहाज भी क्या करे
उसका निर्माण किया ही गया है
सपनों की दुनिया में रहने के लिए
वो रिक्शे या साइकिल की तरह
गंदी गलियों और
टूटी सड़कों पर नहीं चल सकता
कीचड़ या कचरे की बदबू नहीं सहन कर सकता
शरीर पर जरा सी भी खरोंच लग जाय
तो सड़ने लगता है
विश्व का सबसे अच्छा ईंधन
सबसे ज्यादा मात्रा में इस्तेमाल करता है

हवाई जहाज
या उसके सपनों की दुनिया से
मुझे कोई ऐतराज नहीं
ऐतराज इस बात से है
कि हवाई जहाज के हाथ में ही
असली दुनिया की बागडोर है
वह उस जगह बैठकर
आम इंसानों के लिए नियम बनाता है
जहाँ से आम इंसान
या तो चींटी जैसा दिखता है
या दिखता ही नहीं
इसीलिए ज्यादातर नियम
केवल हवाई यात्रा करने वालों की
सुविधाओं का साधन बन कर रह जाते हैं
और आम इंसान
चींटियों की तरह
थोड़े से आटे के लिए ही
संघर्ष करता
जीता मरता
रह जाता है।

3 टिप्‍पणियां:

  1. हवाई जहाज भी क्या करे
    उसका निर्माण किया ही गया है
    सपनों की दुनिया में रहने के लिए
    बहुत खूब ... बहुत अलग और हटकर बिम्ब पर रची कविता .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी कुछ दिन पहले ही किसी मित्र की गाँव के ऊपर से उड़ते हवाई जहाज़ पर एक कविता पढ़ी थी| निस्संदेह आप ने धर्मेद्र भाई इस विषय पर बहुत कुछ और भी सोचा और प्रस्तुत कर दिया| भई वाह|

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।