शुक्रवार, 19 अगस्त 2011

कविता : आँसू और पसीना

आँसू और पसीना दोनों
पानी हैं नमकीन

लेकिन बदबू
सिर्फ पसीने से आती है

क्योंकि पसीना
बुरे काम में भी रिसता है
किंतु नहीं आँसू

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ! लेकिन मेहनत के पसीने की खुशबू का ज़वाब नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Manav shareer se nikalne waale. Do dravon ka adbhut visleshan.
    Shayad gareeb ka paseena badbu nahi karta.
    Kabhi use deo lagaate dekha hai kya?

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।