शनिवार, 21 मार्च 2015

ग़ज़ल : और क्या कहने को रहता है इस अफ़साने के बाद

बह्र : २१२२ २१२२ २१२२ २१२

रूह को सब चाहते हैं जिस्म दफ़नाने के बाद
दास्तान-ए-इश्क़ बिकती खूब दीवाने के बाद

शर्बत-ए-आतिश पिला दे कोई जल जाने के बाद
यूँ कयामत ढा रहे वो गर्मियाँ आने के बाद

कुछ दिनों से है बड़ा नाराज़ मेरा हमसफ़र
अब कोई गुलशन यकीनन होगा वीराने के बाद

जब वो जूड़ा खोलते हैं वक्त जाता है ठहर
फिर से चलता जुल्फ़ के साये में सुस्ताने के बाद

एक वो थी एक मैं था एक दुनिया जादुई
और क्या कहने को रहता है इस अफ़साने के बाद

4 टिप्‍पणियां:

  1. जब वो जूड़ा खोलते हैं वक्त जाता है ठहर
    फिर से चलता जुल्फ़ के साये में सुस्ताने के बाद
    सुभान अल्ला ... बहुत ही लाजवाब शेर देवेन्द्र जी ... कमाल की ग़ज़ल है ...

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।