रविवार, 22 जनवरी 2017

ग़ज़ल : है अंग अंग तेरा सौ गीत सौ ग़ज़ल

बह्र : मफऊलु फायलातुन मफऊलु फायलुन (221 2122 221 212)

है अंग अंग तेरा सौ गीत सौ ग़ज़ल
पढ़ता हूँ कर अँधेरा सौ गीत सौ ग़ज़ल

देखा है तुझको जबसे मेरे मन के आसपास,
डाले हुए हैं डेरा सौ गीत सौ ग़ज़ल।

अलफ़ाज़ तेरा लब छू अश’आर बन रहे,
कर दे बदन ये मेरा सौ गीत सौ ग़ज़ल।

नागिन समझ के जुल्फें लेकर गया, सो अब,
गाता फिरे सपेरा सौ गीत सौ ग़ज़ल।

आया जो तेरे घर तो सब छोड़छाड़ कर,
लेकर गया लुटेरा सौ गीत सौ ग़ज़ल।

8 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही प्रेम में पगी ग़ज़ल ... हर शेर लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. धर्मेंद्र जी, बहुत प्यार भरी गझल

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस गझल के हर शब्द से प्यार झलक रहा हैं.

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।