सोमवार, 13 फ़रवरी 2017

प्रेमगीत : बिना तुम्हारे, हे मेरी तुम, सब आधा है

बिना तुम्हारे
हे मेरी तुम
सब आधा है

सूरज आधा, चाँद अधूरा
आधे हैं ग्रह सारे
दिन हैं आधे, रातें आधी
आधे हैं सब तारे

धरती आधी
सृष्टि अधूरी
रब आधा है

आधा नगर, डगर है आधी
आधे हैं घर, आँगन
कलम अधूरी, आधा काग़ज़
आधा मेरा तन-मन

भाव अधूरे
कविता का
मतलब आधा है

फागुन आधा, मधुऋतु आधी
आया आधा सावन
आधी साँसें, आधा है दिल
आधी है घर धड़कन

जीवन आधा
पर मेरा दुख
कब आधा है?

2 टिप्‍पणियां:

जो मन में आ रहा है कह डालिए।