शनिवार, 29 दिसंबर 2012

कविता : ऐसा क्यूँ है?


कुछ लोग जानते थे
कि देश में संविधान नाम का एक भूत है
जो खम्भों पर खड़े महल में निवास करने वाले अघोरियों का गुलाम है

कुछ नर जानते थे
कि देश में कानून नाम का एक लकड़बग्घा है
जो युद्ध खत्म होने के बाद लाशें नोचकर अपना पेट भरने आता है

कुछ जानवर जानते थे
कि इस देश में नर देवता होता है
जिसका चरित्र कैसा भी हो लेकिन पत्नी द्वारा पूजा जाता है
और मादा होती हैं गाय
जो सब कुछ चुपचाप सहकर दूध देती है

कुछ शैतान जानते थे
कि इस देश की एक पवित्र नदी में नहाने पर
या हजारों साल पुरानी कहानियाँ श्रद्धा भाव से सुनने पर
जघन्य से जघन्य पाप ईश्वर द्वारा तुरंत क्षमा कर दिया जाता है

कुछ हैवानों की बचपन की चाहत थी
एक सुंदर मादा के साथ जंगल में घूमने की
लेकिन उनमें न इतनी योग्यता थी न इस देश में इतने रोजगार
कि वो पा सकें अपने सपनों की मादा
और दूसरे योग्य नरों के साथ सुंदर मादा देखते ही फूट पड़ता था उनका गुस्सा

कुछ हैवानों का बचपन बीता था एक ऐसे जंगल में
जहाँ नर और मादा को अपनी नैसर्गिक इच्छाएँ इस सीमा तक दबानी पड़ती हैं
कि जरा सी कमजोरी उन्हें एक भयंकर विस्फोट के साथ बाहर निकालती है
जैसे फटता है ज्वालामुखी

कुछ हैवान ये नहीं जानते थे
कि हर मादा गाय नहीं होती
गलतफ़हमी में वो शेरनी का दूध निकालने गए
और बुरी तरह घायल हुआ उनका अहंकार
बचपन से इस देश के हर नर के खून में घुला हुआ अहंकार
वो अहंकार जो बाहर निकलता है तो अच्छे अच्छे इंसानों को प्रेत बना देता है

अमृत विष की काट नहीं होता
विष की काट हमेशा विष ही होता है
अमृत एक अलग तरह का विष है

ऐसा क्यूँ है?
इस प्रश्न का उत्तर दुर्धर और अविश्वसनीय है
इसीलिए सब के सब
क्या होना चाहिए?
इस प्रश्न का उत्तर तलाशते हैं

लेकिन अब इस प्रश्न का उत्तर तलाश करने का समय आ गया है
कि इतने सारे धर्मग्रन्थ, नियम, कानून, उपदेश, साहित्य
मंदिर, मस्जिद, गिरिजाघर, गुरुद्वारे,
पूजा, आरती, प्रार्थना, अजान, नमाज
युगों युगों से होने के बावजूद
ऐसा क्यूँ है?

3 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ नहीं बदलना है. बस, हाइपोक्रेसी को नोंच फेंकना है. वही नहीं कर पाये हैं और अपनी तर्जनी के गुलाम बने पड़े हैं. ये जो दिखाती है वही देखते फिरते हैं. जबकि हमें खूब मालूम है कि तर्जनी के आँख नहीं होती. होती है तो बस लालसायें जिसके लिहाज से ये मुँह उठाये फिरा करती है. और खुद को बचा रहती है.. हम नहीं वो..

    बहुत कुछ कहा है आपने, भाईजी. हार्दिक धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति,,,,धर्मेन्द्र भाई,,,

    चिरनिद्रा में सोकर खुद,आज बन गई कहानी,
    जाते-जाते जगा गई,बेकार नही जायगी कुर्बानी,,,,

    recent post : नववर्ष की बधाई

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।