गुरुवार, 2 जनवरी 2014

ग़ज़ल : इश्क जबसे वो करने लगे

बह्र : २१२ २१२ २१२
 --------
इश्क जबसे वो करने लगे
रोज़ घंटों सँवरने लगे

गाल पे लाल बत्ती हुई
और लम्हे ठहरने लगे

दिल की सड़कों पे बारिश हुई
जख़्म फिर से उभरने लगे

प्यार आखिर हमें भी हुआ
और हम भी सुधरने लगे

इश्क रब है ये जाना तो हम
प्यार हर शै से करने लगे

कर्म अच्छे किये हैं तो क्यूँ
भूत से आप डरने लगे

9 टिप्‍पणियां:

  1. गाल पे लाल बत्ती हुई
    और लम्हे ठहरने लगे

    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढ़िया प्रस्तुति है आदरणीय -
    बधाई -

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (4-1-2014) "क्यों मौन मानवता" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1482 पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर ग़ज़ल !
    नया वर्ष २०१४ मंगलमय हो |सुख ,शांति ,स्वास्थ्यकर हो |कल्याणकारी हो |
    नई पोस्ट विचित्र प्रकृति
    नई पोस्ट नया वर्ष !

    उत्तर देंहटाएं
  5. लाजवाब शेर ... कमाल की गज़ल, नए अंदाज़ के शरों के साथ ...

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।