सोमवार, 30 मई 2016

ग़ज़ल : वो यहाँ बेलिबास रहती है

बह्र : २१२२ १२१२ २२

बन के मीठी सुवास रहती है
वो मेरे आसपास रहती है

उसके होंठों में झील है मीठी
मेरे होंठों में प्यास रहती है

आँख ने आँख में दवा डाली
अब जुबाँ पर मिठास रहती है

मेरी यादों के मैकदे में वो
खो के होश-ओ-हवास रहती है

मेरे दिल में न झाँकिये साहिब
वो यहाँ बेलिबास रहती है

10 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ... गज़ब के शेर ... मीठी झील और प्यास ... गज़ब सर ... लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. "वो यहाँ बेलिबास रहती है" लाजवाब गझल

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।