शनिवार, 31 दिसंबर 2016

नवगीत : नव वर्ष ऐसा हो

है यही विनती प्रभो
नव वर्ष ऐसा हो
एक डॉलर के बराबर
एक पैसा हो

ऊसरों में धान हो पैदा
रूपया दे पाव भर मैदा
हर नदी को तू रवानी दे
हर कुआँ तालाब पानी दे
लौट आए गाँव शहरों से
हों न शहरी लोग बहरों से

खूब ढोरों के लिये
चोकर व भूसा हो

कैद हो आतंक का दानव
और सब दानव, बनें मानव
ताप धरती का जरा कम हो
रेत की छाती जरा नम हो
घाव सब ओजोन के भर दो
तेल पर ना युद्ध कोई हो

साल ये भगवन! धरा पर
स्वर्ग जैसा हो

सूर्य पर विस्फोट हों धीरे
भूध्रुवों पर चोट हो धीरे
अब कहीं भूकंप ना आएँ
संलयन हम मंद कर पाएँ
अब न काले द्रव्य उलझाएँ
सब समस्याएँ सुलझ जाएँ

चाहता जो भी हृदय ये
ठीक वैसा हो

8 टिप्‍पणियां:

  1. नववर्ष की ढेर सारी शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी नववर्ष की ढेर सारी शुभकामनायें

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. आपको भी नववर्ष की ढेर सारी शुभकामनायें

      हटाएं
  3. वाह .. एक डालर के बराबर एक एक रुपया हो जाये ...
    आमीन ... काश औसा हो जाये ... नव वर्ष मंगलमय हो ...

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।