सोमवार, 28 अक्तूबर 2013

ग़ज़ल : वो पगली बुतों में ख़ुदा चाहती है

बह्र : फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन फ़ऊलुन

मेरे संगदिल में रहा चाहती है
वो पगली बुतों में ख़ुदा चाहती है

सदा सच कहूँ वायदा चाहती है
वो शौहर नहीं आइना चाहती है

उतारू है करने पे सारी ख़ताएँ
नज़र उम्र भर की सजा चाहती है

बुझाने क्यूँ लगती है लौ कौन जाने
चरागों को जब जब हवा चाहती है

न दो दिल के बदले में दिल, बुद्धि कहती
मुई इश्क में भी नफ़ा चाहती है

3 टिप्‍पणियां:

  1. सदा सच कहूँ वायदा चाहती है
    वो शौहर नहीं आइना चाहती है ...
    बहुरत ही लाजवाब शेर ... अलाद अंदाज़ का शेर ... मज़ा आ गया पूरी गज़ल का ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह...बहुत सुन्दर....बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी जली है बहू जली है

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।