सोमवार, 7 अक्तूबर 2013

ग़ज़ल : सच वो थोड़ा सा कहता है

सच वो थोड़ा सा कहता है
बाकी सब अच्छा कहता है

दंगे ऐसे करवाता वो
काशी को मक्का कहता है

दौरे में जलते घर देखे
दफ़्तर में हुक्का कहता है

कर्मों को माया कहता वो
विधियों को पूजा कहता है

जबसे खून चखा है उसने
इंसाँ को मुर्गा कहता है

खेल रहा वो कीचड़ कीचड़
उसको ही चर्चा कहता है

चलता है जो खुद सर के बल
वो सबको उल्टा कहता है

तेरा क्या होगा रे ‘सज्जन’
अंधे को अंधा कहता है

1 टिप्पणी:

जो मन में आ रहा है कह डालिए।