मंगलवार, 3 मार्च 2015

ग़ज़ल : गाँव कम हैं प्रधान ज्यादा हैं

बह्र : २१२२ १२१२ २२

फ़स्ल कम है किसान ज्यादा हैं
ये ज़मीनें मसान ज्यादा हैं

टूट जाएँगे मठ पुराने सब
देश में नौजवान ज़्यादा हैं

हर महल की यही कहानी है
द्वार कम नाबदान ज़्यादा हैं

आ गई राजनीति जंगल में
जानवर कम, मचान ज़्यादा हैं

हाल मत पूछ देश का ‘सज्जन’
गाँव कम हैं प्रधान ज्यादा हैं

5 टिप्‍पणियां:

  1. please make Free Registration with fastet Growing Social Networking website
    share joke, shayri, poem, anything,chat with group Member, Create gommunity. But please remember Don't post any adult conetent, please Help me to Get success:http://www.onlinegatha.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह ... बहुत खूब ...
    हर शेर नायाब ...

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।