शुक्रवार, 23 दिसंबर 2016

ग़ज़ल : दिल ये करता है के अब साँप ही पाला जाए

बह्र : 2122 1122 1122 22

दिल के जख्मों को चलो ऐसे सम्हाला जाए
इसकी आहों से कोई शे’र निकाला जाए

अब तो ये बात भी संसद ही बताएगी हमें
कौन मस्जिद को चले कौन शिवाला जाए

आजकल हाल बुजुर्गों का हुआ है ऐसा
दिल ये करता है के अब साँप ही पाला जाए

दिल दिवाना है दिवाने की हर इक बात का फिर
क्यूँ जरूरी है कोई अर्थ निकाला जाए

दाल पॉलिश की मिली है तो पकाने के लिए
यही लाजिम है इसे और उबाला जाए

दो विकल्पों से कोई एक चुनो कहते हैं
या अँधेरा भी रहे या तो उजाला जाये

4 टिप्‍पणियां:

  1. "दिल ये करता है के अब साँप ही पाला जाए" बहुत ही लाजवाब रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. लाजवाब ... आखरी शेर में आज के माहोल को भरपूर लिखा है ...
    कमाल का शेर है धर्मेन्द्र जी ... बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।