गुरुवार, 30 सितंबर 2010

भगवान के घर में भी लूट पाट है

भगवान के घर में भी लूट पाट है
अत्याचार है,
बुराइयाँ हैं,
बलात्कार है,
भ्रष्टाचार है,
और भगवान भी
इन्हें खत्म कर पाने में असमर्थ है
वरना क्या जरूरत है भगवान को
अच्छे लोगों को इतनी जल्दी अपने पास बुलाने की
और बुरे लोगों को इस दुनिया में जिन्दा छोड़ने की।

3 टिप्‍पणियां:

  1. चूँकि सारी दुनिया ही भगवान् का घर है और हर जगह ऐसा होता है इसलिए मैं भी आपसे सहमत हूँ .
    बहुत ही उम्दा और सार्थक...
    आभार..

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।