सोमवार, 23 मई 2011

ग़ज़ल : सूरज उगता है तो सब यादें सो जाती हैं

चंदा तारे बन रजनी में नभ को जाती हैं।
सूरज उगता है तो सब यादें सो जाती हैं।

आँखों में जब तक बूँदें तब तक इनका हिस्सा
निकलें तो खारा पानी बनकर खो जाती हैं।

खुशबूदार हवाएँ कितनी भी हो जाएँ पर
मरती हैं मीनें जल से बाहर जो जाती हैं।

सागर में बारिश का कारण तट पर घन लिखते
लहरें आकर पल भर में सबकुछ धो जाती हैं।

भिन्न उजाले में लगती हैं यूँ तो सब शक्लें
किंतु अँधेरे में जाकर इक सी हो जाती हैं।

7 टिप्‍पणियां:

  1. वाह धर्मेन्द्र भाई वाह| एक और शानदार गजल आप की तरफ से| बधाई हो|

    उत्तर देंहटाएं
  2. आँखों में जब तक बूँदें तब तक इनका हिस्सा
    निकलें तो खारा पानी बनकर खो जाती हैं।
    बहुत प्यारा शेर.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. शुषमा जी, नवीन जी, वीना जी एवं संगीता जी आप सबका बहुत बहुत शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  4. आँखों में जब तक बूँदें तब तक इनका हिस्सा
    निकलें तो खारा पानी बनकर खो जाती हैं...

    गहरे भाव हैं ... बहुत सी लाजवाब शेर है ...

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।