बुधवार, 13 अगस्त 2014

अनुवाद : टोमास ट्रांसट्रोमर की कविता ‘अधबना स्वर्ग’

निराशा और चिन्ता अपना अपना काम छोड़ देती हैं 
गिद्ध अपनी उड़ान छोड़ देता है

आतुर प्रकाश बह निकलता है
प्रेत भी एक घूँट पी लेते हैं

और दिन में हमारे चित्रों में मौजूद
हिमयुगीन स्टूडियो के हमारे लाल जानवर

हर चीज अपने आसपास देखना शुरू करती है
हम सैकड़ों बार धूप में जाते हैं

हर आदमी अधखुला दरवाजा है
जो हर आदमी को उसके लिए बने एक कमरे में ले जाता है

हमारे पैरों के नीचे अनंत तक फैला मैदान है

पेड़ों के बीच पानी चमक रहा है

झील पृथ्वी में एक खिड़की है
------------
मूल कविता निम्नवत है।

Den halvfärdiga himlen

Modlösheten avbryter sitt lopp.
Ångesten avbryter sitt lopp.
Gamen avbryter sin flykt.

Det ivriga ljuset rinner fram,
även spökena tar sig en klunk.

Och våra målningar kommer i dagen,
våra istidsateljéers röda djur.

Allting börjar se sig omkring.
Vi går i solen hundratals.

Var människa en halvöppen dörr
som leder till ett rum för alla.

Den oändliga marken under oss.

Vattnet lyser mellan träden.

Insjön är ett fönster mot jorden.

7 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खूब ... अच्छा संवाद है ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज गुरुवारीय चर्चा मंच पर ।। आइये जरूर-

    उत्तर देंहटाएं
  3. उम्दा और बेहतरीन... आप को स्वतंत्रता दिवस की बहुत-बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप को भी स्वतंत्रता दिवस की बहुत-बहुत बधाई

      हटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।