गुरुवार, 3 सितंबर 2015

ग़ज़ल : मिल-जुलकर रहती है सो चींटी भी ज़िन्दा है

बह्र : २२ २२ २२ २२ २२ २२ २

अपनी ताक़त के बलबूते हाथी ज़िन्दा है
मिल-जुलकर रहती है सो चींटी भी ज़िन्दा है

कैसे मानूँ रूठ गया है मेरा रब मुझसे
मैं ज़िन्दा हूँ, पैमाना है, साकी ज़िन्दा है

सारे साँचे देख रहे हैं मुझको अचरज से
कैसे अब तक मेरे भीतर बागी ज़िन्दा है

लड़ते हैं मौसम से, सिस्टम से मरते दम तक
इसीलिए ज़िन्दा हैं खेत, किसानी ज़िन्दा है

सबकुछ बेच रही, मानव से लेकर ईश्वर तक
ऐसे थोड़े ही दुनिया में पूँजी ज़िन्दा है

आग बहुत है तुझमें ये माना ‘सज्जन’ लेकिन
ढूँढ़ जरा ख़ुद में क्या तुझमें पानी ज़िन्दा है

3 टिप्‍पणियां:

  1. भाई बहुत ख़ूब

    हर शेर खूबसूरत है।
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तह-ए-दिल से शुक्रगुज़ार हूँ, आदरणीय द्विज जी

      हटाएं
  2. publish ebook with onlinegatha, get 85% Huge royalty, send abstract free,send Abstract today:http://www.onlinegatha.com/

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।