गुरुवार, 25 अगस्त 2016

ग़ज़ल : आ मेरे ख़यालों में हाज़िरी लगा दीजै

बह्र : 212 1222 212 1222

आ मेरे ख़यालों में हाज़िरी लगा दीजै
मन की पाठशाला में मेरा जी लगा दीजै

फिर रही हैं आवारा ये इधर उधर सब पर
आप इन निगाहों की नौकरी लगा दीजै

दिल की कोठरी में जब आप घुस ही आये हैं
द्वार बंद कर फौरन सिटकिनी लगा दीजै

स्वाद भी जरूरी है अन्न हज़्म करने को
प्यार की चपाती में कुछ तो घी लगा दीजै

आग प्यार की बुझने गर लगे कहीं ‘सज्जन’
फिर पुरानी यादों की धौंकनी लगा दीजै

8 टिप्‍पणियां:

  1. वाह ... गज़ब के शब्दों का प्रयोग ... मजा आ गया इस ग़ज़ल का ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी हुई गजल हमेशा ही बहुत बढ़िया होती हैं.
    keep it up.............

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।