शुक्रवार, 18 सितंबर 2009

साहब बोले (हाइकु कविता)

साहब बोले,
"नींबू मीठा होता है"
मैं बोला, "हाँ जी"।

साहब बोले,
"चीनी फीकी होती है"
मैं बोला, "हाँ जी"।

साहब बोले,
"मिर्ची खट्टी होती है"
मैं बोला, "हाँ जी"।

साहब बोले,
"मैं बनूँगा एम डी?"
मैं बोला, "हाँ जी"।

मैं बोला, "सर
दस दिन की छुट्टी
है मुझे लेनी"।

"जा अब छुट्टी,
बड़ा काम है किया"
साहब बोले।

2 टिप्‍पणियां:

  1. ATI SUNDAR .. DIL KHUSH HO GYA BANDOO ...KYA KAS KE CHOT KI HAI LALFEETASHAHON PAR .. MUJHSE KABHI MULAKAT KARNI HO TO "SHABDATEET YA NAGBAL BLOG SPOT PAR AANA" ACHHA LAGEGA

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं बोला, "सर
    दस दिन की छुट्टी"।

    "जा
    साहब बोले।

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।