बुधवार, 23 फ़रवरी 2011

ग़ज़ल: लुटके मस्जिद से हम नहीं आते

लुटके मस्जिद से हम नहीं आते
मयकदे में कदम नहीं आते

कोई बच्चा कहीं कटा होगा
गोश्त यूँ ही नरम नहीं आते

आग दिल में नहीं लगी होती
अश्क इतने गरम नहीं आते

भूख से फिर कोई मरा होगा
यूँ ही जलसों में रम नहीं आते

प्रेम में गर यकीं हमें होता
इस जहाँ में धरम नहीं आते

कोई अपना ही बेवफ़ा होगा
यूँ ही आँगन में बम नहीं आते

3 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (24-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. कोई बच्चा कहीं कटा होगा
    गोश्त यूँ ही नरम नहीं आते

    क्या कहें..हरेक शेर अंतर्मन को झकझोर देता है...बहुत सटीक और सार्थक गज़ल..

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोई अपना ही बेवफा होगा

    यूँ ही आँगन में बम नहीं आते

    उम्दा शेर...बढ़िया ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।