रविवार, 3 जून 2012

ग़ज़ल : जितना ज्यादा हम लिखते हैं


जितना ज्यादा हम लिखते हैं
सच उतना ही कम लिखते हैं

दुनिया के घायल माथे पर
माँ के लब मरहम लिखते हैं

अब तो सारे बैद मुझे भी
रोज दवा में रम लिखते हैं

जेहन से रिसकर निकलोगी
सोच, तुम्हें हरदम लिखते हैं

जफ़ा मिली दुनिया से इतनी
इसको भी जानम लिखते हैं

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. उम्दा शेर... बहुत अच्छी ग़ज़ल...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया.. आज सुबीर संवाद सेवा से एक अच्छे ब्लॉग का पता मिला।

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।