गुरुवार, 9 अगस्त 2012

ग़ज़ल : जानम कैसा मुझको बना दिया


जानम कैसा मुझको बना दिया
अपने जैसा मुझको बना दिया

भूल हुई है तुमसे तो भुगतो
क्योंकर ऐसा मुझको बना दिया

नफ़रत की थी जिससे जीवन भर
रब ने वैसा मुझको बना दिया

गा गाकर सबने इसकी महिमा
केवल पैसा मुझको बना दिया

मान खुदा लूँगा उसको जिसने
मेरे जैसा मुझको बना दिया

5 टिप्‍पणियां:

  1. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मान खुदा लूँगा उसको जिसने
    मेरे जैसा मुझको बना दिया
    बहुत उम्दा बात कही है भाई साहब !लगता है अपना मनमोहना बोल रहा है ,मम्मी जी का पूडल तौल रहा है अपना वजन ...जन्म - अष्टमी मुबारक भाई साहब .
    ram ram bhai
    शुक्रवार, 10 अगस्त 2012
    काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा में है ब्लड प्रेशर का समाधान
    काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा में है ब्लड प्रेशर का

    उत्तर देंहटाएं
  3. kaisa mujhko bana diya paisa mujhko bana diya...bahut sundar

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।