मंगलवार, 19 अक्तूबर 2010

बैकुंठवासी श्याम!

उतर आओ फिर धरा पर, छोड़ कर आराम
बैकुंठवासी श्याम!

अब सुदामा कृष्ण के सेवक से भी दुत्कार खाते,
झूठ के दम पर युधिष्टिर अब यहाँ हैं राज्य पाते;
गर्भ में ही मार देते कंस नन्हीं देवियों को,
और अर्जुन से सखा अब कहाँ मिलते हैं किसी को;
प्रेम का बहुरूप धरके,
आगया है काम

देवता डरने लगे हैं देख मानव भक्ति भगवन,
कर्म कोई और करता फल भुगतता दूसरा जन;
योग सस्ता होके अब बाजार में बिकने लगा है,
ज्ञान सारा देह के सुख को बढ़ाने में लगा है;
नये युग को नई गीता,
चाहिए घनश्याम

कौरवों और पांडवों के स्वार्थरत गठबन्धनों से,
हस्तिनापुर कसमसाता और भारत त्रस्त फिर से;
द्रौपदी का चीर खींचा जा रहा हर इक गली में,
धरके लाखों रूप आना ही पड़ेगा इस सदी में;
बोझ कलियुग का तभी,
प्रभु पाएगा सच थाम

3 टिप्‍पणियां:

  1. धर्मेन्द्र भाई मुझे लगता है कि यह कविता मैने पहले भी कहीं पढ़ी है| शायद आप ने फेसबुक पर पोस्ट की हो| बहुत ही सुंदर कविता है ये|
    नये युग को नई गीता,
    चाहिए घनश्याम
    बहुत बहुत मर्मस्पर्शी| बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  2. व्यथा उभर कर आयी है…………………सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. .

    बहुत सुंदर गीत है … बधाई धर्मेन्द्र जी !

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।