बुधवार, 4 जनवरी 2012

क्षणिका : चर्बी

वो चर्बी
जिसकी तुम्हें न अभी जरूरत है
न भविष्य में होगी
वो किसी गरीब के शरीर का मांस है

8 टिप्‍पणियां:

  1. गरीब के शरीर का मांस = चर्बी

    sahi hai .

    उत्तर देंहटाएं
  2. bhut sahi kaha aapne....bahut khoob
    welcome to my blog

    उत्तर देंहटाएं
  3. चर्बी का सही विश्लेषण। बहुत सुंदर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही करारा व्यंग हैं शोषण करने वाले धनाढ्य वर्ग पर !

    उत्तर देंहटाएं
  5. आह! क्या बात कही है...! सत्य... सटीक!!!

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।