बुधवार, 4 जनवरी 2012

क्षणिका : चर्बी

वो चर्बी
जिसकी तुम्हें न अभी जरूरत है
न भविष्य में होगी
वो किसी गरीब के शरीर का मांस है

8 टिप्‍पणियां:

जो मन में आ रहा है कह डालिए।