शुक्रवार, 22 नवंबर 2013

ग़ज़ल : क्यूँ वो अक्सर मशीन होते हैं

बह्र : २१२२ १२१२ २२

याँ जो बंदे ज़हीन होते हैं
क्यूँ वो अक्सर मशीन होते हैं

बीतना चाहते हैं कुछ लम्हे
और हम हैं घड़ी न होते हैं

प्रेम के वो न टूटते धागे
जिनके रेशे महीन होते हैं

वन में उगने से, वन में रहने से
पेड़ सब जंगली न होते हैं

उनको जिस दिन मैं देख लेता हूँ
रात सपने हसीन होते हैं

खट्टे मीठे घुले कई लम्हे

यूँ नयन शर्बती न होते हैं

6 टिप्‍पणियां:


  1. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (23-11-2013) "क्या लिखते रहते हो यूँ ही" “चर्चामंच : चर्चा अंक - 1438” पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    उत्तर देंहटाएं
  3. याँ जो बंदे ज़हीन होते हैं
    क्यूँ वो अक्सर मशीन होते हैं
    प्रेम के वो न टूटते धागे
    जिनके रेशे महीन होते हैं

    खट्टे मीठे घुले कई लम्हे

    यूँ नयन शर्बती न होते हैं

    वाह सर बहुत बढ़िया ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूबसूरत मतला, और दिलचस्प शेर!

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।