गुरुवार, 26 फ़रवरी 2015

ग़ज़ल : ख़ुदा मिटा करते हैं अक़्सर कलम नहीं मिटती

बह्र : २२ २२ २२ २२ २२ २२ २

माना मिट जाते हैं अक्षर कलम नहीं मिटती
मारो बम गोली या पत्थर कलम नहीं मिटती

जितने रोड़े आते उतना ज़्यादा चलती है
लुटकर, पिटकर, दबकर, घुटकर कलम नहीं मिटती

इसे मिटाने की कोशिश करते करते इक दिन
मिट जाते हैं सारे ख़ंजर कलम नहीं मिटती

पंडित, मुल्ला और पादरी सब मिट जाते हैं
मिट जाते मज़हब के दफ़्तर कलम नहीं मिटती

जब से कलम हुई पैदा सबने ये देखा है
ख़ुदा मिटा करते हैं अक़्सर कलम नहीं मिटती

शनिवार, 21 फ़रवरी 2015

ग़ज़ल : ख़ुद को दुहराने से है अच्छा रुक जाना

बह्र : २२ २२ २२ २२ २२ २२

फिर मिल जाये तुम्हें वही रस्ता रुक जाना
ख़ुद को दुहराने से है अच्छा रुक जाना

उनके दो ही काम दिलों पर भारी पड़ते
एक तो उनका चलना औ’ दूजा रुक जाना

दिल बंजर हो जाएगा आँसू मत रोको
ख़तरनाक है खारे पानी का रुक जाना

तोड़ रहे तो सारे मंदिर मस्जिद तोड़ो
नफ़रत फैलाएगा एक ढाँचा रुक जाना

पंडित, मुल्ला पहुँच गये हैं लोकसभा में
अब तो मुश्किल है ‘सज्जन’ दंगा रुक जाना

गुरुवार, 19 फ़रवरी 2015

ग़ज़ल : कैसे कैसे ख़ुशी ढूँढ़ते हैं

बह्र : २१२२ १२२१ २२

दूसरों में कमी ढूँढ़ते हैं
कैसे कैसे ख़ुशी ढूँढ़ते हैं

प्रेमिका उर्वशी ढूँढ़ते हैं
पर वधू जानकी ढूँढ़ते हैं

हर जगह गुदगुदी ढूँढ़ते हैं
घास भी मखमली ढूँढ़ते हैं

वोदका पीजिए आप, हम तो
दो नयन शर्बती ढूँढ़ते हैं

वो तो शैतान है जिसके बंदे
क़त्ल में बंदगी ढूँढ़ते हैं

आज भी हम समय की नदी में
बह गई ज़िन्दगी ढूँढ़ते हैं

शुक्रवार, 13 फ़रवरी 2015

ग़ज़ल : भाव मिले जीवन-कविता में तो तुक जाता है

बह्र : २२ २२ २२ २२ २२ २२ २

रोज़ बदलती इस दुनिया में जो रुक जाता है
तन से मन से रिसते रिसते वो चुक जाता है

आँधी आती है तो जान बचाने की ख़ातिर
जो जितना ऊँचा उतनी जल्दी झुक जाता है

दो के झगड़े में होता नुकसान तीसरे का
आँखें लड़ती हैं आपस में दिल ठुक जाता है

अपने ही देते हैं सबसे ज़्यादा दर्द हमें
चमड़ी के दिल तक चमड़े का चाबुक जाता है

माँ, पत्नी अब साथ नहीं रह सकती हैं ‘सज्जन’
भाव मिले जीवन-कविता में तो तुक जाता है

मंगलवार, 3 फ़रवरी 2015

गीत : पैसा, ख़तरा, ख़ून हमारा सारा लाभ तुम्हारा

पैसा, ख़तरा, ख़ून हमारा
सारा लाभ तुम्हारा

तिल तिल कर वो मरा सदा
जो रहा अछूता तुमसे
चारों खम्भे लोकतंत्र के
चरण वन्दना करते

सारी ख़बरों में बजता है
तुम्हरा ही इकतारा

नायक खलनायक अधिनायक
खेल खिलाड़ी सारे
देव, दैव, इंसान, दरिन्दे
सब हैं दास तुम्हारे

मन्दिर मस्जिद गिरिजाघर में
गूँज रहा जयकारा

ऐसा क्या है इस दुनिया में
जिसे न तुमने जीता
साम, दाम, औ’ दंड, भेद से
फल पाया मनचीता

पूँजी तुम्हरे रामबाण से
सारा भारत हारा

शुक्रवार, 30 जनवरी 2015

ग़ज़ल : हम हों न हों दिक्काल में, इंसानियत लेकिन रहे

सूरज मिटे, चंदा मिटे, धरती बनी जोगिन रहे
हम हों न हों दिक्काल में, इंसानियत लेकिन रहे

सूरत अगर बद हो तो हो सीरत मगर कमसिन रहे
फिर चार दिन की जिन्दगी दो दिन रहे इक दिन रहे

रोबोट हो या जानवर तब तो न कोई बात है
इंसान को संभव कहाँ इंसानियत के बिन रहे

हों पक्ष में सब या ख़िलाफ़त हो मिरी मंजूर है
हो फ़ैसला जो भी मगर हर पल बहस मुमकिन रहे

गर एक भाषा हो सभी की जीत लाएँ स्वर्ग हम
क्या फ़र्क़ पड़ता है कि वो हिन्दी रहे लैटिन रहे

बुधवार, 28 जनवरी 2015

नवगीत : ब्राह्मणवाद हँसा

ब्राह्मणवाद हँसा

देव बनाये, धर्म बनाया
जाति, गोत्र की जेल बनाई
चंद बुद्धिमानों से मिलकर
मज़लूमों की रेल बनाई

गणित, योग, विज्ञान सभी में
जाकर धर्म घुसा

स्वर्ग नर्क गढ़ दिये शून्य में
अतल, वितल, पाताल रच दिया
भाँति भाँति के तंत्र मंत्र से
भरतखण्ड का भाल रच दिया

कवियों के कल्पित जालों में
मानव मात्र फँसा

सत्ता का गुरु बनकर बैठा
पूँजी को निज दास बनाया
शक्ति जहाँ देखी, चरणों में
गिरकर अपने साथ मिलाया

मानवता की गर्दन झूली
फंदा और कसा

सोमवार, 26 जनवरी 2015

ग़ज़ल : समझा था जिसको आम वो बंदा खजूर था

बह्र : २२१२ १२११ २२१२ १२

अपनी मिठास पे उसे बेहद गुरूर था
समझा था जिसको आम वो बंदा खजूर था

मृगया में लिप्त शेर को देखा जरूर था
बकरी के खानदान का इतना कुसूर था

दिल्ली से दिल मिला न ही दिल्ली में दिल मिला
दिल्ली में रह के भी मैं यूँ दिल्ली से दूर था

शब्दों से विश्व जीत के शब्दों में छुप गया
लगता था जग को वीर जो, शब्दों का शूर था

हीरे बिके थे कल भी बहुत, आज भी बिकें
लेकिन नहीं बिका जो कभी, कोहिनूर था

शब भर मैं गहरी नींद में कहता रहा ग़ज़ल
दिन में पिये जो अश्क़ ये उनका सुरूर था

सोमवार, 19 जनवरी 2015

गीत : अनपढ़ बाबा

अनपढ़ बाबा
सारे जग को
बाँट रहे हैं ज्ञान

भ्रष्टाचारी की सुख सुविधा
और गरीबों की लाचारी
पूर्वजन्म के कर्मों का फल
पाते राजा और भिखारी

सारे प्रश्नों का उत्तर वो
देते एक समान

ध्यान मग्न हो पूजा करना
दान दक्षिणा देना जम कर
व्रत उपवास हमेशा रखना
प्रभु देंगे तुमको घर भर कर

बाबा जी का गणित यही है
और यही विज्ञान

भूत भविष्य इन्हें दिखता है
सबका भाग्य बताते हैं ये
गुरु ईश्वर से भी बढ़कर है
सबको यही सिखाते हैं ये

भगवा वस्त्र पहनकर खुद को
बता रहे भगवान

शनिवार, 17 जनवरी 2015

ग़ज़ल : एक फूल को सौ सौ काँटे

बह्र : २२ २२ २२ २२

क्या जोड़े तू, कैसे बाँटे
एक फूल को सौ सौ काँटे

अरबों भक्तों की दुनिया में
कुछ पूँजीपति कैसे छाँटे

आशिक तेरे दोनों हैं पर
इसको चुम्बन उसको चाँटे

धरती भी तो आखिर माँ है
सबको चूमे सबको डाँटे

ले तेरा तुझको अर्पित है
दुख, लाचारी, काँटे, चाँटे