रविवार, 4 सितंबर 2022

घटना: प्रिय लिखक से मुलाकात

आज आदरणीय उदय प्रकाश जी से उनके निवास पर मिलना हुआ। उन्हें हाल ही में टाइफाइड हुआ था। अभी स्वास्थ्य लाभ कर रह हैं। चलने फिरने में अभी परेशानी हो रही है। वजन 13 किलो कम हो गया है। मैंने अपना पहला उपन्यास जिन चार लोगों को समर्पित किया है उनमें सबसे पहले उदय प्रकाश जी हैं। आज उपन्यास की एक प्रति अपने प्रिय लेखक को भेंट की।

चित्र में पीछे दीवार पर घड़ी, बुद्ध और लिखा हुआ संदेश "I will survive" उनकी अदम्य जिजीविषा के साथ-साथ इस बात को अभिव्यक्त कर रहे हैं कि सत्य और मानवता हमेशा बचे रहेंगे।


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

जो मन में आ रहा है कह डालिए।