गुरुवार, 21 अक्तूबर 2010

सुहाग की निशानियाँ

सुहाग की निशानियाँ
याद दिलाती रहतीं हैं
नववधू को उसके पति की,
इन निशानियों को उसे हमेशा पहनना पड़ता है
धीरे धीरे वो इन निशानियों की आदी हो जाती है
और उसे ध्यान भी नहीं रहता
कि उसने ये निशानियाँ भी पहनी हुई हैं;

एक दिन अचानक जब उसका सुहाग
परलोक सिधार जाता है
तब उसे वो सारी निशानियाँ उतारनी पड़ती हैं
ताकि उनकी अनुपस्थिति उसे पति की याद दिलाती रहे
मरते दम तक;

पुरुषों के लिए ऐसा कुछ भी नहीं है,
वाह रे पुरुषों के बनाए रिवाज,
वाह!

2 टिप्‍पणियां:

  1. अच्छी रचना। भारतीय एकता के लक्ष्य का साधन हिंदी भाषा का प्रचार है!
    पक्षियों का प्रवास-१

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही लिखा है आपने धर्मेन्द्र जी| हम पुरुषों ने अपने लिए तो ऐसा कुछ बनाया ही नहीं|

    उत्तर देंहटाएं

जो मन में आ रहा है कह डालिए।