शुक्रवार, 30 जनवरी 2015

ग़ज़ल : हम हों न हों दिक्काल में, इंसानियत लेकिन रहे

सूरज मिटे, चंदा मिटे, धरती बनी जोगिन रहे
हम हों न हों दिक्काल में, इंसानियत लेकिन रहे

सूरत अगर बद हो तो हो सीरत मगर कमसिन रहे
फिर चार दिन की जिन्दगी दो दिन रहे इक दिन रहे

रोबोट हो या जानवर तब तो न कोई बात है
इंसान को संभव कहाँ इंसानियत के बिन रहे

हों पक्ष में सब या ख़िलाफ़त हो मिरी मंजूर है
हो फ़ैसला जो भी मगर हर पल बहस मुमकिन रहे

गर एक भाषा हो सभी की जीत लाएँ स्वर्ग हम
क्या फ़र्क़ पड़ता है कि वो हिन्दी रहे लैटिन रहे

बुधवार, 28 जनवरी 2015

नवगीत : ब्राह्मणवाद हँसा

ब्राह्मणवाद हँसा

देव बनाये, धर्म बनाया
जाति, गोत्र की जेल बनाई
चंद बुद्धिमानों से मिलकर
मज़लूमों की रेल बनाई

गणित, योग, विज्ञान सभी में
जाकर धर्म घुसा

स्वर्ग नर्क गढ़ दिये शून्य में
अतल, वितल, पाताल रच दिया
भाँति भाँति के तंत्र मंत्र से
भरतखण्ड का भाल रच दिया

कवियों के कल्पित जालों में
मानव मात्र फँसा

सत्ता का गुरु बनकर बैठा
पूँजी को निज दास बनाया
शक्ति जहाँ देखी, चरणों में
गिरकर अपने साथ मिलाया

मानवता की गर्दन झूली
फंदा और कसा

सोमवार, 26 जनवरी 2015

ग़ज़ल : समझा था जिसको आम वो बंदा खजूर था

बह्र : २२१२ १२११ २२१२ १२

अपनी मिठास पे उसे बेहद गुरूर था
समझा था जिसको आम वो बंदा खजूर था

मृगया में लिप्त शेर को देखा जरूर था
बकरी के खानदान का इतना कुसूर था

दिल्ली से दिल मिला न ही दिल्ली में दिल मिला
दिल्ली में रह के भी मैं यूँ दिल्ली से दूर था

शब्दों से विश्व जीत के शब्दों में छुप गया
लगता था जग को वीर जो, शब्दों का शूर था

हीरे बिके थे कल भी बहुत, आज भी बिकें
लेकिन नहीं बिका जो कभी, कोहिनूर था

शब भर मैं गहरी नींद में कहता रहा ग़ज़ल
दिन में पिये जो अश्क़ ये उनका सुरूर था

सोमवार, 19 जनवरी 2015

गीत : अनपढ़ बाबा

अनपढ़ बाबा
सारे जग को
बाँट रहे हैं ज्ञान

भ्रष्टाचारी की सुख सुविधा
और गरीबों की लाचारी
पूर्वजन्म के कर्मों का फल
पाते राजा और भिखारी

सारे प्रश्नों का उत्तर वो
देते एक समान

ध्यान मग्न हो पूजा करना
दान दक्षिणा देना जम कर
व्रत उपवास हमेशा रखना
प्रभु देंगे तुमको घर भर कर

बाबा जी का गणित यही है
और यही विज्ञान

भूत भविष्य इन्हें दिखता है
सबका भाग्य बताते हैं ये
गुरु ईश्वर से भी बढ़कर है
सबको यही सिखाते हैं ये

भगवा वस्त्र पहनकर खुद को
बता रहे भगवान

शनिवार, 17 जनवरी 2015

ग़ज़ल : एक फूल को सौ सौ काँटे

बह्र : २२ २२ २२ २२

क्या जोड़े तू, कैसे बाँटे
एक फूल को सौ सौ काँटे

अरबों भक्तों की दुनिया में
कुछ पूँजीपति कैसे छाँटे

आशिक तेरे दोनों हैं पर
इसको चुम्बन उसको चाँटे

धरती भी तो आखिर माँ है
सबको चूमे सबको डाँटे

ले तेरा तुझको अर्पित है
दुख, लाचारी, काँटे, चाँटे

बुधवार, 14 जनवरी 2015

ग़ज़ल : मैं तुमसे ऊब न जाऊँ न बार बार मिलो

बह्र : १२१२ ११२२ १२१२ ११२

मैं तुमसे ऊब न जाऊँ न बार बार मिलो
बनी रहेगी मुहब्बत, कभी कभार मिलो

महज़ हो साथ टहलना तो आर पार मिलो
अगर हो डूब के मिलना तो बीच धार मिलो

मुझे भी खुद सा ही तुम बेकरार पाओगे
कभी जो शर्म-ओ-हया कर के तार तार मिलो

प्रकाश, गंध, छुवन, स्वप्न, दर्द, इश्क़, मिलन
मुझे मिलो तो सनम यूँ क्रमानुसार मिलो

दिमाग, हुस्न कभी साथ रह नहीं सकते
इसी यकीन पे बन के कड़ा प्रहार मिलो

शनिवार, 10 जनवरी 2015

ग़ज़ल : मैं भी आदम का बच्चा हूँ मैंने कब इनकार किया है

बह्र : २२ २२ २२ २२ २२ २२ २२ २२

हाँ मैं भी गलती करता हूँ मैंने कब इनकार किया है
मैं भी आदम का बच्चा हूँ मैंने कब इनकार किया है

जब गुस्से में हूँ, तीख़ा हूँ, मैंने कब इनकार किया है
जब आँसू हूँ, तो खारा हूँ मैंने कब इनकार किया है

अनुभव के आगे बच्चा हूँ मैंने कब इनकार किया है
बचपन के आगे बूढ़ा हूँ मैंने कब इनकार किया है

मजलूमों का खून चलाता है जिन यंत्रों को उनका ही
मैं भी छोटा सा पुर्जा हूँ मैंने कब इनकार किया है

दफ़्तर से घर, घर से दफ़्तर, ऐसे सभ्य हुआ हूँ मैं भी
लेकिन मन का बंजारा हूँ मैंने कब इनकार किया है

मज़लूमों की ख़ातिर मन में दर्द बहुत है फिर भी ‘सज्जन’
तन की सुविधा का चमचा हूँ मैंने कब इनकार किया है

मंगलवार, 6 जनवरी 2015

कविता : तुम्हारे प्रेम के बिना

चित्र : चुम्बन (पाब्लो पिकासो)

हमारे होंठ हमारा प्यार हैं
खाते समय कभी न कभी होंठ कट ही जाते हैं
शुक्र है कि लार में जीवित नहीं रह पाते सड़न पैदा करने वाले विषाणु
इसलिए होंठों पर लगे घाव जल्दी भर जाते हैं
क्रमिक विकास में हमने
होंठों को बचा कर रखना सीख लिया है

कितनी सारी ग़ज़लें जबरन कहे गए मत्ले के साथ जीती हैं
कितने सारे मत्ले भर्ती के अश’आर संग निबाहते हैं
मुकम्मल ग़ज़लें दुनियाँ में होती ही कितनी हैं

हमारा प्यार मुकम्मल ग़ज़ल हो
मैंने इतनी बड़ी ख़्वाहिश कभी नहीं की
बस एक शे’र ऐसा हो
जिसे दुनिया अपने दिल--दिमाग से निकाल न सके
जिसका मिसरा--ऊला मैं होऊँ और मिसरा--सानी तुम

तुम्हारा जिस्म एक भूलभुलैया है
हर बार तुम्हारी आत्मा तक पहुँचते पहुँचते मैं राह भटक जाता हूँ

तुम्हारे हाथों पर किसी और की लगाई मेरे नाम की मेंहदी नहीं हूँ मैं
जिसे चार कपड़े और चार बर्तन, चार दिन में हमेशा के लिए मिटा देंगे

मैं तुम्हारी आत्मा की तलाश में निकला वो मुसाफिर हूँ
जो कभी अपनी मंजिल तक नहीं पहुँच पाएगा
लेकिन ये जानते हुए भी तुम्हारी आत्मा हमेशा जिसका इंतजार करेगी

तुमको छू कर आता हुआ प्रकाश
मेरी आँख का पानी है

बादल आँसू बहाते हैं और रेगिस्तान रोता है
रोने वालों की आँखें अक्सर सूखी रहती हैं
आँसू बहाने वाले अक्सर रोते नहीं

तुमको सोते हुए देखना
तुममें घुलना है

कपड़े तुम्हारे जिस्म से उतरते ही मर जाते हैं
साँस तुम्हारे जिस्म से निकलते ही भभक उठती है
चूड़ियाँ तुम्हारे हाथों से निकलकर गूँगी हो जाती हैं
तुम गहने पहनना छोड़ दो तो क्या इस्तेमाल रह जाएगा अनमोल पत्थरों का
तुम न होती तो पुरुष अपने झूठे अहंकार के लिए लड़ भिड़ कर कब का खत्म हो गए होते

तुम्हारे छूने भर से बेजुबान चीजें गुनगुनाने लगती हैं
जीवन तुम्हारी छुवन में है

ईश्वर तक पहुँचने के रास्ते का एकमात्र द्वार तुम्हारे दिल में है

तुम्हारे दिल तक पहुँचने के रास्ते में ढेर सारे मंदिर, मस्जिद, धर्मग्रंथ, धर्मगुरु
ईश्वर ले लो, ईश्वर ले लो, सस्ता सुंदर और टिकाऊ ईश्वर ले लो” की आवाज लगाते रहते हैं

नारी नरक का द्वार है” मानव इतिहास का सबसे भयानक झूठ है

हर शिव ये जानता है कि कामदेव के बिना सृष्टि का चलना असंभव है
किंतु हर शिव कामदेव को भस्म करने का नाटक रचता है
परिणाम?
कामदेव अदृश्य और अजेय हो कर वापस आता है

एक गाँव में किसी घर के पिछवाड़े एक कुआँ था। न जाने कौन घर की चीजें जैसे कपड़े, खाना इत्यादि ले जाकर कुएँ में डाल देता था। सब खोज खोजकर हार गए लेकिन कारण का पता नहीं चला। अंत में सबने मान लिया कि उस कुएँ में कोई भूत रहता है। कई भूत भगाने वाले बुलाये गये पर कोई फ़र्क नहीं पड़ा। कुछ सालों बाद घरवालों ने वो कुआँ ही बंद करवा दिया। ये प्रेत कथा उस गाँव के लोग तरह तरह से सुनते सुनाते थे और बच्चों को डराते थे। पर उस गाँव की एक औरत ऐसी थी जो इस कहानी का सच जानती थी। दर’असल जिस घर के पिछवाड़े वो कुआँ था उस घर की एक लड़की गाँव के ही एक लड़के से प्रेम करती थी। जब घर वालों को पता चला तो उन्होंने लड़की का घर से निकलना बंद करवा दिया और लड़के को बहुत मारा पीटा। लेकिन प्रेम फिर भी बढ़ता गया और उसके साथ ही बढ़ते गए घर वालों के अत्याचार। तंग आकर लड़की ने उसी कुएँ में कूदकर अपनी जान दे दी। लड़की की माँ को लगता था कि अकाल मृत्यु मरने के कारण उसकी बेटी की आत्मा कुएँ में भटकती रहती है इसलिए वो सबसे छुपाकर उसके लिए जब तब कपड़े, खाना और अन्य जरूरत के सामान उस कुएँ में डाल आती थी।

प्रेत कथाएँ दर’असल विकृत प्रेम कथाएँ है। प्रेत कथाओं पर यकीन मत करना।

जैसे नाभिक का सारा आकर्षण अर्थहीन है इलेक्ट्रान के बिना
जैसे सूर्य का सारा प्रकाश बेमतलब है धरती के बिना
जैसे ये ब्रह्मांड निरर्थक है इंसान के बिना
वैसे ही मेरे होने का कोई मतलब नहीं है

तुम्हारे प्रेम के बिना

शुक्रवार, 2 जनवरी 2015

ग़ज़ल : दूर जाना चाहता तो ले के मेला चल

बह्र : २१२२ २१२२ २१२२ २

तेज़ चलना चाहता है तो अकेला चल
दूर जाना चाहता तो ले के मेला चल

खा के मीठा हर जगह से आ गया है तू
स्वस्थ रहना है तुझे तो खा करेला चल

सूर्य चढ़ने दे जरा, इस काँच के घर में
साँप ख़ुद मर जाएँगें, तू फेंक ढेला, चल

जिन्दगी अनजान राहों से गुजरती है
एक भटकेगा यकीनन हो दुकेला चल

चल रही आकाशगंगा चल रहे तारे
चल रहा जग तू भी अपना ले झमेला चल